हिम्मत ना हार,चल चला चल…

एक दिन किसान का गधा कुएँ में गिर गया।वह घंटों तक रोता रहा ।किसान को जैसे ही पता चला तो किसान ने मन में फैसला किया कि जानवर पुराना था और वैसे भी मरने के बाद ढंकने की आवश्यकता थी ।गधे को पुनः प्राप्त करने का कोई फ़ायदा ना था। उसने अपने सभी पड़ोसियों को आवाज़ दी और उसकी कुएँ में मिट्टी डालने में मदद करने के लिए आमंत्रित किया। वे सभी एक एक फावड़ा लेकर कुएँ में मिट्टी डालने लगे।किसान की नियत का गधे को एहसास हो गया था कि उसके साथ क्या हो रहा है और बुरी तरह वह रोने लगा । फिर वह शांत हो गया। जैसे जैसे लोग मिट्टी डालते ,गधा कुछ अद्भुत हरकत करता।वह उसे अपनी पीठ से हिलाकर एक कदम उठा लेता। जल्दी ही हर कोई आश्चर्यचकित हो गया क्योंकि गधे ने मिट्टी को अपनी पीठ से हिला हिला कर व कुएं के किनारे पर कदम रखा और खुशी से झूम उठा!

लोग आप के अच्छे कामों पर मिट्टी डालने का हर भरसक प्रयास करेंगे।परंतु आप अपनी बुद्धि व धैर्य से अपने अच्छे प्रयास जारी रखें।

खुश रहने के पांच सरल नियमों को याद रखें:

1. अपने दिल को नफरत से मुक्त करें – क्षमा करें।

2. अपने दिमाग को चिंताओं से मुक्त करें ।सब कुछ व सबसे ज़्यादा कभी नहीं होता है।

3. जीओ और जीने दो ।जो आपके पास है,उसकी सराहना करे ।

4. लोगों से कम लेकिन खुद से ज्यादा उम्मीद करें।

आपके पास दो विकल्प हैंमुस्कुराएं और इस पेज को बंद करें, या किसी को शेयर कर दें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.