सात अजूबे दुनिया के,कौन से हैं ?

वाराणसी में जूनियर हाई स्कूल के छात्र व छात्राओं को दुनिया के सात अजूबों को पढ़ाया जा रहा था । क्लास के अंत में, छात्रों को यह बताने के लिए कहा गया था कि वे दुनिया के सात अजूबों में से क्या मानते हैं ? हालांकि कुछ असहमति के साथ निम्नलिखित को सबसे अधिक सहमति मिली :-

1.मिस्र के महान पिरामिड 2.रोम का कोलोसियम 3.भारत में ताजमहल 4.ब्राज़ील की क्राइस्ट द रिडिमर की प्रतिमा 5.पेरू का माचू पिच्चू 6.ज़ोर्डन का पेत्रा 7.चीन की महान दीवार

शिक्षकों ने वोटों को इकट्ठा करते समय ध्यान दिया कि एक छात्रा बहुत शांत दिख रही थी ।छात्रा से पूछा कि क्या वह उपरोक्त सूची से सहमत नहीं है। शांत छात्रा ने जवाब दिया, “हां, थोड़ा। मैं निर्णय नहीं कर पायी क्योंकि मेरे हिसाब से बहुत सारे थे।

शिक्षक ने कहा, “ठीक है, हमें बताओ ।”

छात्रा हिचकिचाई, फिर बोली , “मुझे लगता है कि दुनिया के सात आश्चर्य हैं:

1.स्पर्श 2.स्वाद 3.देखना 4.सुनना 5.महसूस करना 6.हँसना 7.प्यार करना

कमरा बिलकुल शांत ।आप पिन ड्रॉप भी सुन सकते थे। यह कहानी हम सभी के लिए एक याददाश्त बढाने के रूप में उपयोग कर सकते है कि जिन चीज़ों को हम सरल और सामान्य मानते हैं,वे अक्सर सबसे अद्भुत होती हैं ।इन्हें अनुभव करने के लिए कहीं भी किसी भी देश की विशेष यात्रा नहीं करनी पड़ती है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.